वायुमंडल

Dr. M. S. Chauhan

वायुमंडल

पृथ्वी को चारों ओर सैकड़ों किमी. की मोटाई में लपेटने वाले गैसीय आवरण को वायुमंडल कहते हैं। वायुमंडल गर्मी को रोककर रखने में एक विशाल ‘काँच घरÓ का काम करता है,जोलघु तरंगों और विकिरण को पृथ्वी के धरातल पर आने देता है, परंतु पृथ्वी से विकरित होने वाली तरंगों को बाहर जाने से रोकता है। इस प्रकार वायुमंडल पृथ्वी पर सम तापमान बनाए रखता है।

वायुमण्डल की वायु के मुख्य अवयव नाइट्रोजन (78′), ऑक्सीजन (21′), ऑर्गन (0.93′) और कार्बन-डाई-ऑक्साइड (0.003′) हैं। वायुमण्डल में जलवाष्प एवं गैसों के अतिरिक्त सूक्ष्म ठोस कणों की उपस्थित भी ज्ञात की गई है। वायुमण्डल को निम्न 5 मण्डलों में विभाजित किया जाता है-

 

क्षोभमण्डल (troposphere)- यह वायुमंडल का सबसे निचला हिस्सा है। इसकी ऊँचाई धरातल से 12 किमी. तक है। इस मण्डल में जलवाष्प एवं धूल कणों की अत्याधिकमात्रा के विद्यमान रहने के कारण वायुमण्डल के गर्म एवं शीतल होने की विकिरण, संचालन…

View original post 202 more words

About Rashid Faridi

I am Rashid Aziz Faridi ,Writer, Teacher and a Voracious Reader.
This entry was posted in Hindi Posts, Winds. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s